वीएचपी के स्थापना दिवस पर “भगवामय” हुआ माहौल

विश्व हिन्दू परिषद स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में वीएचपी ने आज रविवार को एक शोभायात्रा का आयोजन महानगर के अंदर किया गया।

आगरा से आए प्रांत सह संपर्क प्रमुख सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि जब तक विश्व हिन्दू परिषद बजरंग दल है देश ही नहीं अपितु पूरे विश्व में जहां पर भी विश्व हिन्दू परिषद का कार्य है वहां पर किसी भी हिन्दू का उत्पीड़न विश्व हिन्दू परिषद नहीं होने देगा।

महानगर कार्यकारी अध्यक्ष शेखर शर्मा ने सभी को विश्व हिन्दू परिषद स्थापना दिवस की एवं श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं प्रेषित की और कहा कि यह शोभायात्रा हिन्दू समाज की प्रमुख शोभायात्रा है जो प्रत्येक हिन्दू को गौरवान्वित करती है।

महानगर मंत्री इंद्रपाल सिंह ने कहा कि आज देश का हिन्दू समाज जग गया है इतनी बरसात होने के बावजूद भी बजरंग दल विश्व हिन्दू परिषद का कार्यकर्ता इस शोभायात्रा में आया है इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हिन्दू अब जागृत हो चुका है।

महानगर उपाध्यक्ष मयंक कुमार ने बताया कि विश्व हिन्दू परिषद की स्थापना 1964 में संदीपनी आश्रम में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन दिवस पर ही की गई थी जिसके उपलक्ष्य में विश्व हिन्दू परिषद संपूर्ण भारत वर्ष के अंदर भिन्न-भिन्न प्रकार के कार्यक्रम एवं शोभायात्रा के आयोजन का कार्यक्रम करता है जिसकी श्रंखला में हरिगढ महानगर में भी यही विशाल शोभायात्रा आयोजित की गई है।

संचालन बजरंगदल के महानगर संयोजक गौरव शर्मा ने किया। मीडिया को जानकारी देते हुए मीडिया प्रभारी विशाल देशभक्त ने बताया कि शोभायात्रा रामलीला मैदान से प्रारंभ होकर अचल रोड मदार गेट चौराहा, दुबे पड़ाव चौराहा, गांधी पार्क चौराहा, होते हुए जीटी रोड पर दुबे पडाव चौराहे पर उसके बाद धर्म समाज महाविद्यालय होते हुए पुनः रामलीला मैदान पर ही समाप्त हुई।

शोभायात्रा में सबसे आगे धर्म ध्वजा लेकर एक कार्यकर्ता उसके पश्चात 30 बुलेट पर 2–2 कार्यकर्ता भगवा ध्वज लेकर बैठे थे उसके पश्चात छत्रपति शिवाजी का स्वरूप एवं मंगल पांडे का स्वरूप घोड़े पर सवार था, उसके पश्चात दुर्गा वाहिनी की बहने हाथों में भगवा ध्वज एवं तलवार लेकर चल रही थी, उसके पश्चात मां काली का स्वरूप, उसके पश्चात समस्त बजरंग दल के कार्यकर्ता देश भक्ति एवं राष्ट्र भक्ति के गीतों पर नृत्य करते हुए और सबसे अंत में शिवाजी नगर द्वारा तैयार किया गया।

भव्य राम मंदिर का प्रतीकात्मक ढोला प्रमुख आकर्षण का केंद्र था एवं मध्य में एक दुर्गा वाहिनी की बहन भारत माता के स्वरूप में थी, वह भी आकर्षण का केंद्र थी।

इस शोभायात्रा में प्रमुख रूप से शेखर शर्मा, इंद्रपाल सिंह, गौरव शर्मा, मयंक कुमार, मोनू शर्मा, सुभ्रान्त वार्ष्णेय, अजय गुप्ता, प्रवीण शर्मा, आशु सक्सेना, रितेश वर्मा, अमन, अमित भारद्वाज, उमेश भारद्वाज, गुलशन ठाकुर, गौरव माहेश्वरी, विशाल शर्मा, यश पंडित, एंव महानगर मीडिया प्रमुख विशाल देशभक्त आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।