महामारी में बेसहारों को मिल रहा “मानव उपकार का सहारा”

कोराना वाइरस के खतरे के चलते देशभर में लागू हुए लॉक डाउन के बाद जहाँ जिंदगी ठहर सी गई है और लोग पीएम के आह्वान के बाद अपने-अपने घरों में हैं।

वहीं इस लॉक डाउन से दिहाडी मजदूर और रोज कमाने खाने वाले गरीब लोगों के आगे खाने का संकट खड़ा हो गया है हालांकि सरकार अपने स्तर से इन लोगों मदद पहुँचा रही है लेकिन वो नाकाफी है।

इस कोराना वाइरस की महामारी के दौर में सामाजिक संस्था मानव उपकार कई दिन से गरीब बेसहारों लोगों को भोजन व्यबस्था करा रही है। संस्था वाकायदा भोजन बांटने से पहले सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए सभी को सेनेटाइज का संदेश भी दे रही है।

 इसे कोरोना माहमारी की विडंबना कहें या मजबूरी, हालात ये हैं कि देश भर में जनता कर्फ्यू के बाद घोषित हुए 21 दिनों के लॉक डॉउन की वजह से अलीगढ़ में भूख से राहगीर व मजदूर बदहाल नज़र आए।

अलीगढ़ की प्रमुख समाज सेवी संस्था मानव उपकार नें ऐसे बेवस राहगीरों व मजदूरों का धनोधारी बन उनको अब पूरे लॉक डॉउन तक सुबह शाम भोजन कराने का बीड़ा उठाया है।

बुधवार को पहले नवरात्र में मानव उपकार संस्था द्वारा किये जा रहे पुनीत कार्य की हर जगह सराहना हो रही है। संस्था के अध्यक्ष विष्णु के बंटी ने बताया कि बंद की परेशानी व यहां वाहन न मिलने की बजह से घर वापस न जा पा रहे राहगीरों व मजदूरों की भूख की चिंता को देखते हुए वे संस्था के चेयरमैन पंकज धीरज व अन्य पदाधिकारियों के साथ कल जिलाधिकारी से मिले थे,जिसकी स्वीकृति उपरांत नवरात्र के प्रथम दिन से नियमित निःशुल्क भोजन वितरण करने का बीड़ा,सभी सहयोगियों की मदद से उठाया है।

जो लोग,दान व भोजन सामग्री गरीबों को बंटबाने के इच्छुक है,वो संस्था के हेल्प लाइन नंबर 9412732100 व 9837008079 पर काल कर सहयोग कर सकते हैं।

मानव उपकार की टीम ने तीन सौ से अधिक राहगीरों को गांधी पार्क, बन्ना देवी,रसलगंज,बस अड्डा आदि क्षेत्रों में भोजन के पैकेट वितरित किए साथ ही कोरोना वायरस से बचने व दूर दूर रहने की जानकारी भी राहगीरों को दी।

टीम में अध्यक्ष विष्णु के बंटी, चेयरमैन पंकज धीरज,रामप्रकाश सूर्यवंशी,ज्ञानेंद्र चौहान,विष्णु पीतल, प्राची वार्ष्णेय,जितेन्द्र टी डी आदि उपस्थित रहे।