कोरोना महामारी में तुलसी के पौधों की बड़ी माँग

कोरोना वायरस के दौर में जहां लोग एक तरफ ऑक्सीजन के लिए मारामारी देखने को मिल रही है वहीं लोग अब पर्यावरण और अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत होकर घर में ही प्लांटेशन करने के लिए पौधों की खरीददारी करते दिख रहे हैं। इस समय ऐसे पौधों की अधिक माँग की बजह से तुलसी के पौधों के दामों में भी बढ़ोत्तरी देखने को मिली है लेकिन लोगों का मानना है कि सेहत और पर्यावरण के लिहाज से 5/10 रुपये की बढ़ोतरी कोई मायने नहीं रखती।

अलीगढ़ नगर निगम के सामने पौधा बेचने वाले राजकुमार ने बताया कि हम अपने दादा के जमाने से प्लांटेशन का काम कर रहे हैं। कोरोना के चलते इस वक्त तुलसी,कढ़ीपत्ता,हरसिंगार,मेडिसिन प्लांट,लेमन ट्री को लोग माँग रहे हैं इनको हम दे रहे हैं। इससे बीमारी कम हो रही है। कुछ लोग इसकी चाय बना कर पीते हैं तो कुछ ऑक्सीजन के लिए भी लगा रहे हैं। राजकुमार ने बताया कि इस वक्त तुलसी,मेडिसिन प्लांट और ऑक्सीजन प्लांट की माँग बढ़ गई है।

वहीं पौधों की खरीददारी करने आये लोगों का कहना था कि कोरोना महामारी के वक्त ऑक्सीजन की माँग को देखते हुए हम अपने घरों के लिए पौधे खरीदने आये हैं ताकि हमारे घर हरियाली के जरिये ऑक्सीजन लेबिल भी बना रहे। वहीं हमने कुछ पौधे तुलसी और लेमन ट्री के भी लिये हैं ताकि हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी बनी रहे। 

पौधे खरीदने आयीं शमां परवीन ने बताया कि कोरोना के इस वक्त में तुलसी के पौधे 5/10 रुपये महँगे मिल रहे हैं लेकिन हम अपने स्वास्थ्य को देखते हुए लॉकडाउन के वक्त इसके कोई मायने नहीं हैं। कोरोना के वक्त हमारा लोगों से कहना है कि अपने आसपास हरियाली और ऐसे पौधे लगाएं जिससे ऑक्सीजन और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़े ताकि हम कोरोना से लड़ सके और स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत बन सके।