चाइना के मुकाबले अलीगढ़ में आधा कीमत पर तैयार हो रहे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

कहते हैं कि आवश्यकता अविष्कार की जननी होती है। अलीगढ़ के 2 इंजीनियर और उधमी ने मिलकर यही कर दिखाया है। इन लोगों ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते ऑक्सीजन की मारामारी वक्त ऐसा स्वदेशी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किया है जो मरीजों का जीवन बचाने सफल साबित हो रहा है।

अलीगढ़ के तालानगरी में स्थित प्रिसिजन एडवांस सिस्टम और 2 इंजीनियर की कम्पनी इंजीनियरिंग एंड एनवायरमेंटल सॉल्यूशन ने मिलकर ये ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किया है। इनका दावा है कि हमने प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर कुछ सामान को छोड़कर सभी स्वदेशी सामान से ये ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किये हैं जो चाइना के मुकाबले आधी कीमत के हैं और इनके खराब होने पर इनकी रिपेयरिंग भी की जा सकती है जबकि चाइना के कंसंट्रेटर खराब होने के बाद कबाड़ा हो जाते हैं। हमने अपने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का अलीगढ़ में एनजीओ के माध्यम से घर और अस्पतालों में सफल प्रयोग भी कराया है।

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार करने वाले डिजायनर सैयद अबु रेहान ने बताया कि मैंने अपने साथी मोहम्मद हमज़ा के सहयोग से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार किया है। दो हफ्ते पहले जब ऑक्सीजन की बहुत ज्यादा कमी हो रही थी लोगों को मिल नहीं पा रही थी। मेरे साथी हमज़ा फोन आया हम लोग कुछ ऐसा करें जिससे ये संकट कम हो सके तो उसका आइडिया था तो हमने एक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का प्रोजेक्ट देखा और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर कैसे काम करता है यह पढ़ा। क्योंकि हम लोग सब यहां इंजीनियर हैं तो हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि यह प्रोजेक्ट बनाया जा सकता है। दो हफ्ता पहले हमने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को सफलतापूर्वक तैयार कर लिया। इसके बाद अलीगढ़ कमिश्नर और प्रिसिजन एडवांस सिस्टम के सीईओ मनीष बंसल के सहयोग से हमेें जिस रौ मैटेरियल की जरूरत थी वो मैटेरियल मुहैया कराया गया। जिसके बाद ऑक्सीजन कंसंट्रेटर तैयार हुआ।

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का डेमो दीनदयाल हॉस्पिटल व अलीगढ़ के कुछ मरीजों पर जिनको ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही थी उन पर टेस्ट किया जिससे मरीजों ने इंप्रूवमेंट महसूस भी किया। इसमें हमारी 5 इंजीनियरों की टीम जुटी थी। इस प्रोजेक्ट पर प्रिसिजन एडवांस सिस्टम के 40 लोगों की टीम अब काम कर रही है अब तक हम लोग 30 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन तैयार कर चुके हैं जो एनजीओ के सहयोग से अलीगढ़ में इस्तेमाल हो रही हैं इसका रेस्पॉन्स काफी पॉजिटिव है क्योंकि से 90 से ऊपर कंसंट्रेशन जा रही तो ये तो काम करेगा ही इसमें कोई शक नहीं है।

प्रिसिजन एडवांस सिस्टम सीईओ मनीष बंसल ने बताया कि हम दुनिया के कई देशों में हार्डवेयर एक्सपोर्ट का कारोबार करते हैं। कोरोना महामारी की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की काफी कमी आई। इस कारण हमने मिशन लिया अलीगढ़ में कुछ इंजीनियर जो ऑलरेडी एनवायरनमेंट पर काम कर रहे थे हमने उनके साथ मिलकर एक रूपरेखा तैयार कर 7 दिन 24 घंटे काम करने के बाद हमने सक्सेसफुली  5 एलपीएम पर 93% ऑक्सीजन पर हमने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लॉन्च कर दिया। 

मनीष बंसल ने कहा कि अलीगढ़ के लिए शान की बात रही कि अलीगढ़ जैसी छोटी जगह से उत्तर प्रदेश में शायद भारत में पहली बार कुछ थोड़ा बहुत सामान छोड़कर बाकी सब कुछ स्वदेशी सामान से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बना दिया। 
मनीष बंसल ने कहा कि चाइना के ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के मुकाबले हमारी क्वालिटी के हिसाब से आधी कीमत है। अगर आज हम इसका पूर्णतः प्रोडक्शन करते हैं तो 500 लोगों को रोजगार दे सकते हैं और गवर्नमेंट के लिए एक अच्छी इनकम तैयार कर सकते हैं। इसमें हमारे प्रधानमंत्री का जो सपना था आत्मनिर्भर भारत और मेक इन इंडिया का इसी सपने को साकार करते हुए यह प्रयोग किया गया है और इस प्रयोग को सक्षमता से अगर हमें सहयोग दिया गया तो हम इसे बहुत सारी जगह पर उपयोग करके और बेहतर काम कर सकते हैं। फिलहाल अभी बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन करने के लिए हमारे सामने जिओलाइट कैमिकल की जो समस्या आ रही है। वो हमें नहीं मिल रहा है। अगर वह जिओलाइट केमिकल हमें उपलब्ध हो जाता है तो हम बड़ी आसानी से इतना प्रोडक्शन कर सकते हैं कि अपने क्षेत्र में ऑक्सीजन की कमी लगभग लगभग एक महीने में समाप्त करने में सक्षम हैं।
मनीष बंसल ने बताया कि जब ऑक्सीजन की किल्लत चल रही थी तब अलीगढ़ कमिश्नर ने इंडस्ट्री वालों को मीटिंग कॉल की थी तब हमने उनके सामने अपना प्रपोजल दिया था तो इस प्रपोजल को हाथों हाथ लिया गया और हमारा काफी सहयोग किया गया इसके बाद कमिश्नर अलीगढ़ गौरव दयाल और अलीगढ़ सांसद सतीश गौतम के सहयोग से जो-जो रौ मटेरियल की हमें आवश्यकता थी वह सभी मटेरियल आसानी से उपलब्ध नहीं था क्योंकि सभी जगह लॉकडाउन था फैक्ट्रियां बंद थी सामान उपलब्ध नहीं हो पा रहा था। इनके सहयोग से सभी सामान हमें उपलब्ध हो सका और हमने इस सिस्टम को प्रयोग करके सफल किया। 
मनीष बंसल ने बताया कि हमने अपने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर कुछ एनजीओ को दिए उनका कहना है कि चाइना का कंसंट्रेटर इस वक्त कोई नहीं ले रहा हर व्यक्ति स्वदेशी हमारा वाला कंसंट्रेटर पसंद कर रहा है क्योंकि 70 से 72 एसपी आटो लेविल को उठाके 90/92 तक ले जा रहा है। हमारे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को 24 घंटे चला कर भी कोई समस्या नहीं आ रही है जबकि चाइनीज कंसंट्रेटर अगर खराब हो जाये तो आप उसका कुछ नहीं कर सकते जबकि हमारे कंसंट्रेटर में अगर कोई कमी आ जाती है तो हमारे इंजीनियर फिर से सही करके फिर उस कंसंट्रेटर को चला सकते हैं।